बच्चों का इस काम से खुश होकर कलेक्टर ने दिया इनाम

बच्चों का इस  काम से खुश होकर कलेक्टर ने दिया इनाम
बीकानेर. खबर बीकानेर के गिडा – बागुण्डी है जहां पर प्यार बच्चे रोड के पास खेल रहे थे और अचानक रोड से कलेक्टर की गाड़ी निकलती है और कलेक्टर की नजर खेलते हुए बच्चों पर बढ़ती है और कलेक्टर अपनी गाड़ी रुकवा देता है  और बच्चों के पास में जा पहुंचता है
कलेक्टर अपनी गाड़ी से उतरकर बच्चों के पास पहुंचता है तो वह नजारा देखकर खुद अपने बचपन में खो जाता है

इसी बीच खेलते हुए बच्चे उन लोगों को पास में आते देख कर भागने लगे तो कलेक्टर ने उन्हें रोका

आपको बता दें कि बच्चे वहां पर खिलौना का घर बना रहे थे और उसके चारों तरफ रोड भी लगा रखी थी यह सब देख कलेक्टर अपने आप को रोक नहीं पाया और गाड़ी रुकवाकर उन बच्चों का बने हुए खिलौने का घर देखने पहुंच गए देखकर वह इतने खुश हुए कि वह अपने बचपन में खो गए और इनका बना हुआ माटी का घर देख कर मुस्कुराने लगे

फिर कलेक्टर बैठकर बच्चों से बातचीत की और बच्चों से पूछने लगे यह क्या बनाया है और वह क्या करते हैं कितने में पढ़ते हैं कौन से स्कूल में पढ़ाई करते हैं परिवार वाले क्या करते हैं सारी बातें की पूछताछ की
के कलेक्टर बाड़मेर के जिला कलेक्टर शिवप्रसाद मदन थे और इनके साथ में मुख्य कार्यकारी अध्यक्ष मदनलाल नेहरा भी मौजूद थे दोनों ने बच्चों से बातचीत की और अपने बचपन की बातें भी उनके साथ ज़्यादा की इसके बाद बाड़मेर जिला कलेक्टर शिवप्रसाद मदन ने बच्चों को इनाम के तौर पर ₹500 दिए

और बच्चों को समझाते हुए कलेक्टर ने कहा कि अपने अंदर के बचपन को जिंदा रखना चाहिए यह बचपन वापस कभी भी लौट कर नहीं आता है आज ज्यादातर देखकर तो बच्चे मोबाइल और इंटरनेट में खोए रहते हैं तो ऐसे मौके कम देखने को मिलता है और यह सब मौका देख कर मेरा मन प्रसन्न हो गया

इसके बाद में कलेक्टर और बच्चों का यह फोटो सोशल मीडिया पर खूब वायरल होने लगा और इस पर तरह-तरह की प्रक्रिया भी आने लगी
लोगों ने बच्चों को बधाई दी और उनके घर पर कलेक्टर खड़े थे मुहूर्त पर कलेक्टर है आज की तरह से लोगों ने बच्चों को बधाइयां दी


इस पर बाड़मेर जिला कलेक्टर की प्रक्रिया आई है उन्होंने कहा  मुझे अच्छा लगा बल्की बहुत अच्छा लगा यह बच्चों का घरौंदा देखकर मन प्रसन्न हो गया इस तरह का बचपन बहुत अच्छा लगता है कल्पना से बने धरौंदा बच्चों के धरो कि पसंद भी बताता है

Leave a Reply